Train Journey Essay in Hindi – जब भी कोई व्यक्ति एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है तो वह यात्रा कहलाता है, मगर जब भी किसी लंबे सफर पर जाना हो तो सबसे पहले रेल का ही ख्याल आता है, रेल यात्रा करना आरामदायक तथा सुविधाजनक व्यक्तियों के लिए होता है इसीलिए प्रत्येक व्यक्ति रेल से ही सफर करना पसंद करते हैं।

आज के समय प्रत्येक देश के पास अपनी रेल सुविधा उपलब्ध है, जिसके माध्यम से हर रोज लाखों की संख्या में लोग सफर करते हैं, ट्रेन जिसमें एक इंजन और कई सारे डिब्बे होते हैं, डिब्बों में व्यक्ति बैठकर अपने शहर को पूर्ण करते हैं। हर तरह की सुविधा और साधन व्यक्ति को रेल यात्रा के दौरान दी जाती है जिसकी वजह से अधिक से अधिक लोगों के रेल से यात्रा करना पसंद करते हैं।

Train Journey Essay in Hindi

Train Journey Essay in Hindi – मेरी रेल यात्रा

रेल यात्रा के दौरान सुंदर सुंदर दृश्य देखने को मिलते हैं, जैसे-जैसे रेल आगे बढ़ता है आसपास के नजारे देखने को मिलते हैं, ग्रामीण इलाके, खेत खलिहान, जंगल, कारखाना, शहर, इमारतें, नदिया, आदि प्रकार के दृश्य रेल यात्रा के दौरान दिखाई देते हैं।

रेल यात्रा के दौरान कई तरह के लोग मिलते हैं जिनसे बातचीत दिया जाता है, रेल यात्रा व्यक्ति को मिलनसार वातावरण देती है, इस दौरान कई लोग कई नए मित्र बनाते हैं। अक्सर देखने को मिलता है कि व्यक्ति की रेल यात्रा के दौरान अपने परिवार तथा दोस्तों के साथ समय बिताते हैं, सुंदर नजारा देखते हुए अपने रेल यात्रा को पूर्ण करते हैं। कई लोग रेल यात्रा के दौरान पढ़ना, संगीत सुनने, अंताक्षरी खेलना, वीडियो देखना, आराम करना पसंद करते हैं।

रेल यात्रा व्यक्ति को शांतिपूर्ण समय बिताने का अवसर देता है, रेल यात्रा के माध्यम से व्यक्ति वह की अनुभूति करता है, इसके अलावा रेल यात्रा काफी शक्ति होती है जिसके माध्यम से प्रत्येक व्यक्ति रेल यात्रा का लाभ उठा सकता है।

मेरी प्रथम रेल यात्रा

मैं अक्सर कहीं भी जाता हूं तो रेल के माध्यम से ही जाता हूं, इसी वजह से मुझे रेल काफी ज्यादा पसंद है, जब मैं छोटा बच्चा था तब मैंने प्रथम बार रेल से यात्रा की थी, वह दृश्य आज भी मुझे याद है जब मैं अपने माता-पिता के साथ रेल में यात्रा कर रहा था।

इस समय में प्रथम बार अपने माता-पिता के साथ अपने नानी के घर जा रहा था, स्कूल की छुट्टियां थी गर्मी का मौसम था, जिस वजह से रेल यात्रा मुझे काफी पसंद आई थी।

रेल में कई तरह के खाने पीने वाले सामग्री मिलते हैं, मुझे याद है मैं उन दिनों आइसक्रीम खाते हुए रेल यात्रा कर रहा था, मेरा सफर लगभग 16 घंटे का था, परंतु मुझे समय का पता ही नहीं चला, वह सफर मेरी जिंदगी का सबसे यादगार पल था। आज मैं प्रत्येक महीने में एक दो बार रेल यात्रा कर लेता हूं, परंतु बचपन के जैसे एहसास आज नहीं होते उन दिनों की बात ही कुछ अलग थी।

मेरी प्रथम रेल यात्रा पटना से दिल्ली की थी, मैंने अपने सफ़र से 2 महीने पहले ही टिकट बनवा लिया था, मेरे माता-पिता के साथ वह मेरा पहला सफर था, जब मैं स्टेशन पर पहुंचा तब मैंने पहली बार ट्रेन देखा था, ट्रेन देखते ही मेरे होठों पर मुस्कुराहट आ गई थी। और जब में ट्रेन में बैठा तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा।

आज मैं अपने दोस्तों के साथ सफर करता हूं, मगर कभी भी एहसास मुझे महसूस नहीं होता जो मुझे पहली बार ट्रेन में सफर करते वक्त हुआ था। वह मेरी प्रथम रेल यात्रा आखरी सांस तक याद रहेगी।

रेल यात्रा का अनुभव

आज मैं यूनिवर्सिटी में पढ़ता हूं, और जब भी मैं छुट्टियों में घर जाता हूं तो मैं रेल के माध्यम से ही घर जाना पसंद करता हूं, जब मैं वापस पटना घर जाता हूं तुम्हें अक्सर ट्रेन के माध्यम से जाना पसंद करता हूं क्योंकि ट्रेन मुझे एक ऐसा वातावरण प्रदान करता है जो अन्य साधन प्रदान नहीं करते। गर्मी की छुट्टियों में घर जाने का फैसला किया, और मैंने कुछ हफ्ते पहले ही अपने ट्रेन की टिकट बुक कर लिए।

मेरे ट्रेन के खुलने से पहले ही मैं रेलवे स्टेशन पर पहुंच चुका था, जब मेरा ट्रेन आया तुम्हें अपने सीट पर जाकर बैठ गया, मुझे छोड़ने मेरे कुछ दोस्त आए थे, जब ट्रेन चलने लगी तो वह ट्रेन से उतर गए और मुझे अलविदा कहने लगे।

मेरे आस-पास हर तरह के लोग बैठे हुए थे, मगर वहां किसी भी प्रकार का कोई भेदभाव नहीं था, सभी लोग एक साथ मिलकर सफर कर रहे थे, कुछ लोग पहले ही उतर गए और कुछ मेरे साथ पटना तक चले। मेरे आस-पास के लोगों के पास काफी सामान था, जिसे वे इधर उधर रख रहे थे, मैंने देखा कि ट्रेन में काफी शोरगुल हो रहा है।

बाहर का नजारा देखने योग्य था, खेत खलिहान, पेड़ पौधे, जानवर, प्राकृतिक वातावरण देखने को मिल रहा था। देखते ही देखते मेरा समय खत्म हो गया और मैं अपनी मंजिल तक पहुंच गए, ट्रेन यात्रा के दौरान मैंने कई सारे मित्र बनाए थे, जिन से बात करते वक्त मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला। मैंने अच्छा समय रेल यात्रा के दौरान बिताया।

इसी कारण वर्ष मुझे रेल यात्रा करना अत्यधिक पसंद है। रेल यात्रा के दौरान कई तरह के भावनात्मक पल आते हैं, जो व्यक्ति को बहुत कुछ सिखाते हैं, मैंने रेल यात्रा के दौरान बहुत कुछ सीखा है लोगों से बात करने का तरीका जाना है, हर तरह के व्यक्तियों को परखना सीख लिया है।

Conclusion

रेल यात्रा के मायने प्रत्येक व्यक्ति के लिए अलग-अलग है, कुछ लोग बस अपने समय बिताने के लिए रेल यात्रा करते हैं, तो कुछ खुशहाल, पल को जीने के लिए। रेल यात्रा के दौरान तरह-तरह के सिख लोगों से मिलती है, तरह तरह के लोग मिलते हैं उनसे दोस्ती करने का मौका मिलता है।

तरह तरह की भाषा संस्कृति को समझने का अवसर प्राप्त होता है, प्राकृतिक नजारा देखते हुए सफर करने का मौका मिलता है। रेल यात्रा एक ऐसा फल होता है जो व्यक्ति अपने जीवन में कभी भूलता नहीं, कई तरह की यादें और खुशहाल पल रेल यात्रा के माध्यम से व्यक्ति को प्राप्त होता है।

रेल यात्रा सस्ता और आरामदायक होता है, इसीलिए प्रत्येक व्यक्ति इसका उपयोग कर सकता है। बिना किसी भेदभाव, के प्रत्येक व्यक्ति सफर का आनंद ले सकता है। ना कोई धर्म, ना कोई जाति ना अमीर गरीब, रेल यात्रा के दौरान देखा जाता है।

Read more –

Train Journey essay in EnglishEssay on My city
money essay in HindiGeneration Gap essay in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post