Road Rage Essay in Hindi – आए दिन सड़कों पर लड़ाई झगड़ा देखने को मिलता है, इसी रोष को रोड रेंज कहां जाता है। जब भी लोग सड़कों पर लड़ाई झगड़ा करने के लिए उतर जाते हैं, तब इस स्थिति को रोड रेंज के नाम से जाना जाता है। कभी-कभी तो लोग फिजूल में ही एक दूसरे से बहस करने लगते हैं, और कभी-कभी बहस लड़ाई में बदल जाती है।

लोगों में तनाव का स्तर काफी बढ़ चुका है जिसके कारण इस तरह की घटनाएं देखने को मिलती है, लोग आक्रमक हो जाते हैं, और छोटी-छोटी बातों पर लड़ने लगते हैं। अपने जीवन के निराशा से परेशान होकर व्यक्ति क्रोध से घिर जाता है, और अपने क्रोध को कम करने के लिए शारीरिक बल का इस्तेमाल करता है।

Road Rage Essay in Hindi

रोड रेंज का नामकरण

इसका नाम लॉस एंजेलिस के स्थानीय समाचार स्टेशन के द्वारा रखा गया था जिसका नाम (KTLA) था, जब शहर में कई जगह गोलीबारी जैसी समस्या देखने को मिली तब नेशनल हाईवे ट्रेफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन के द्वारा इसका नाम रोड रेंज रखा गया, जिसमें एक ड्राइवर अपने अपराधों को अंजाम देता है, अपराध के वक्त वह दूसरे की संपत्ति को नुकसान हो जाता है, ऐसे में यात्री तथा वाहन दोनों को नुकसान पहुंचती है।

आक्रामक ड्राइविंग और रोड रेंज में अंतर क्या है?

नेशनल हाईवे ट्रेफिक सेफ्टी एडमिनिस्ट्रेशन के द्वारा इन दोनों के बीच अंतर बताया गया है, जिसमें रोड रेंज अपराधिक आरोप है वही आक्रामक ड्राइविंग यातायत अपराध है, इन्हीं के आधार पर वाहन चालकों को दोषारोपण करार किया जाता है।

रोड रेंज को कैसे संभाले?

अगर किसी व्यक्ति को रोड रेंज से से सुरक्षित बाहर निकलना है तो उसे अन्य ड्राइवर की स्थिति को समझना होगा, व्यक्ति को समझना होगा कि गलती उसकी है या नहीं, इसके अलावा दूसरे ड्राइवर की प्रतिक्रिया को भी समझना होगा, यह समझना जरूरी है कि सामने वाला ड्राइवर किन परेशानियों से गुजर रहा है और वह किन बातों पर आपसे रोड रेंज करने के लिए तैयार है।

जब भी बात बिगड़ने लगे तो व्यक्ति को ध्यान से स्थिति को संभालना चाहिए, अगर एक तरफ से बहस हो रही है तो एक तरफ से व्यक्ति को समझना होगा कि यह उचित समय नहीं है बात को बढ़ाने के लिए, बात बिगड़े उससे पहले स्थिति को संभालना व्यक्ति को आना चाहिए।

सुरक्षित ड्राइविंग और तनावमुक्त जीवन की आदत व्यक्ति को रखनी चाहिए, अगर अपने आप पर संयम रखा जाए इस तरह की समस्याओं से आसानी से छुटकारा पाया जा सकता है।

Road Rage Essay in Hindi – रोड रेंज के लिए उपाय

  • प्रत्येक व्यक्ति को विचारशील होना होगा, जितना हो सके उतना व्यक्ति को सड़क के नियम का पालन करना होगा।
  • किसी भी व्यक्ति को सड़क पर किसी भी प्रकार का क्रोध की भावना को बढ़ावा देना नहीं चाहिए।
  • किसी भी व्यक्ति को बेवजह हॉर्न बजाना नहीं चाहिए, इससे किसी दूसरे व्यक्ति को परेशानी हो सकती है।
  • जब भी कोई व्यक्ति ट्रैफिक में फस जाता है कुछ समय बेवजह हॉर्न बजाने से परेशानी बढ़ती है, बेवजह और व्यक्ति को हॉर्न बजाना नहीं चाहिए।
  • किसी से झगड़ा लड़ाई करने से अच्छा है शांतिपूर्ण होकर अपने मंजिल तक पहुंचा जाए इसका ध्यान प्रत्येक व्यक्ति को रखना चाहिए।
  • रोड रेंज जैसे समस्या को खत्म करने के लिए कानून व्यवस्था को मजबूत होना होगा, कानून व्यवस्था जितनी मजबूत होगी उतना ही व्यक्ति इस तरह के मामलों को अंजाम देने से घबराएगा,।
  • जब तक कोई गंभीर समस्या या अपराध ना हो जाए तब तक हमारा सिस्टम काम नहीं करता, हमारे सिस्टम में बदलाव लाने की जरूरत है। पुलिस प्रशासन के द्वारा सख्त से सख्त कार्यवाही की जानी चाहिए, जो व्यक्ति भी इन मामलों में पाए जाते हैं उन्हें सजा दी जानी चाहिए।

ट्रेन रेंज से होने वाले खतरे

  • रोड रेंज की वजह से कई लोगों की जान जाती है, अक्सर देखा जाता है कि कई लोग रोड रेंज के कारण घायल हो जाते हैं, और कुछ लोगों के इसमें मौत भी हो जाती है।
  • मुख्य रूप से देखा जाता है कि लोग अक्सर रोड रेंज के बहाने अपने शारीरिक बल को दिखाते हैं, जिसके कारण किसी न किसी व्यक्ति को इसका दुष्परिणाम भोगना पड़ता है।
  • जान से मार देना, गोली मार देना, यह सभी रोड रेंज के मामले में आम बात हो गई है, व्यक्ति जब तक समझता है कि उसके साथ क्या हो रहा है तब तक उसकी जान चली जाती है।

रोड रेंज की वजह से पड़ने वाले प्रभाव

  • जितने भी चालक है रोड रेंज की वजह से तनावग्रस्त हो जाते हैं और आक्रामक स्थिति में ड्राइविंग करते हैं, इसके साथ वह ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते हैं, जिसकी वजह से कानून व्यवस्था में बदलाव देखने को मिलते हैं।
  • अगर ड्राइवर में तनाव की समस्या अधिक है तो रोड रेंज की समस्या भी अधिक बढ़ेगी।
  • जिसके साथ जब भी रोड रेंज जैसी समस्या आती है तो युवा इनमें संभावित रूप से प्रवेश करते हैं और गलत फैसले लेते हैं, ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन, अशिष्ट शब्द, कई तरह के विवाह में शामिल होते हैं।

Conclusion

आज के समय रोड रेंज की समस्या अधिक बढ़ गई है, इसका वजह चालकों में तनाव की वृद्धि है, जब व्यक्ति तनाव से घिरा होता है और क्रोधित होता है तो वह अपने क्रोध और तनाव को कम करने के लिए इस तरह के काम को अंजाम देता है, रोडवेज की समस्या के कारण व्यक्ति घायल होता है तथा कभी-कभी जान तक चली जाती है।

रोड रेंज जैसी समस्या को खत्म करने के लिए व्यक्ति को स्वयं सतर्क और समझदार होना होगा, कानून व्यवस्था में बदलाव लाने होंगे, लोगों को समझना होगा कि रोड रेंज जैसी समस्या से दूसरों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। और दूसरों के व्यक्तियों पर इसका प्रभाव पड़ता है।

Read More –

Road rage essay in EnglishMusic essay in Hindi
Money essay in Hindiessay on Fuel in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post