My School Essay in Hindi – विद्यालय का अर्थ होता है विधा का आलय, यानी कि वह स्थान जहां विधा निवास करती है। भारतीय संस्कृति में विधा को देवी माना जाता है, और विद्यालय मंदिर के समान होता है। हमारी जिंदगी में विद्यालय का जीवन सबसे अमूल्य होता है, ढेरों यादें दोस्ती यहां बस्ती है। हर विद्यार्थी के जीवन में विद्यालय का समय सबसे खास माना जाता है।

किसी के जीवन का सबसे अमूल्य समय उसका बचपन होता है, जब वह खुल कर अपने जीवन को जीता है। उस समय ना तो मुझे कोई जिम्मेदारी होती है ना ही अपने कैरियर की चिंता। किसी भी व्यक्ति के जीवन में बचपन दोबारा नहीं आता, स्कूल का समय ऐसा ही होता है, जब व्यक्ति एक बार स्कूल से बाहर निकल जाता है तो वह सोचता है कि काश उसे फिर से एक मौका मिले ताकि वह अपने विद्यार्थी जिंदगी को जी सकें।

My School Essay in Hindi

My School Essay in Hindi – मेरा विद्यालय

मेरे विद्यालय का नाम केंद्रीय विद्यालय हैं, मेरा स्कूल शहर से दूर एक शांत माहौल में स्थित है जहां ना तो शहर शोरगुल की आवाज आती है और ना ही किसी तरह का खराब वातावरण है। चारों तरफ हरे पेड़ पौधे लगे हुए हैं, जहां ठंडी हवा अक्सर महसूस होती है। दोपहर के समय जब भोजन का वक्त होता है तो मैं अपने सभी मित्रों के साथ स्कूल के बगीचे में ही अपना भोजन ग्रहण करता हूं। ठंडी हवाएं शुद्ध वातावरण हम सभी को सुकून देती है।

हमारा स्कूल सरकारी होने के बावजूद यहां हर तरह की सुख सुविधाएं उपलब्ध है, हर साल यहां के बच्चे अपनी कक्षाओं में अच्छा प्रदर्शन करते हैं, विद्यालय का परिणाम हर साल सत प्रतिशत आता है। यहां वार्षिक उत्सव बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है जिसमें सभी बच्चे विभिन्न विभिन्न प्रकार की गतिविधियों में हिस्सा लेते हैं। कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और जीतने पर अध्यापक के द्वारा उन्हें पुरस्कृत किया जाता है। मुझे हर रोज स्कूल जाना पसंद है क्योंकि स्कूल मेरे लिए वह स्थान है जहां मुझे हर रोज कुछ नया सीखने को मिलता है।

मैं कक्षा में सदैव प्रथम आता हूं, इस वजह से मेरे सभी दोस्त तथा गुरु मेरी प्रशंसा करते हैं। साथी में हर तरह के कार्यक्रम में भी नियमित भागीदारी लेता हूं, जिस वजह से मेरा संपूर्ण रूप से विकास हो रहा है। मेरे विद्यालय में अक्सर बड़े बड़े अधिकारी आते रहते है, जिससे मेरे स्कूल की प्रसिद्धि बढ़ती रहती है।

साथ ही मेरे स्कूल मे हजारों बच्चे है, कुछ मुझसे बड़े है तो कुछ मुझसे छोटे है, हम सब साथ रहते है, किसी तरह का कोई बेर नहीं होता। सभी एक दूसरे के साथ रहते है, सब एक दूसरे की मदद करते है। अध्यापक हमेशा ही बच्चों के प्रश्नों का उत्तर देने के लिए तैयार रहते है, और सब से बड़ी बात यहा सबकी अपनी पहचान है।

पहले पहले के समय में विद्यालय की परंपरा गुरुकुल के माध्यम से जान पड़ती थी, राजा महाराजा अपने बच्चों को गुरुकुल भेजते थे ताकि वह सभी तरह का ज्ञान प्राप्त कर करो एक्शन मृत व्यक्ति बन सके। आज के समय में लोग अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं ताकि वह सामाजिक और व्यवहारिक ज्ञान को जान सके और अपने जीवन में कामयाबी हासिल कर सके।

स्कूल का समय सभी के लिए महत्वपूर्ण इसलिए होता है क्योंकि यह वही समय होता है जब बच्चे संपूर्ण रुप से स्वतंत्र होते हैं, विद्यार्थी जीवन के दौरान हुआ कई सारे नए दोस्त बनाते हैं उनके साथ हंसते खेलते मुस्कुराते हैं, असली जीवन का अनुभव विद्यार्थी जीवन में ही होता है। विद्यालय एक ऐसा स्थान है जहां विभिन्न प्रकार की यादें बनती है, बच्चे नई चीजें सीखते हैं और अपनी परेशानियों का सामना करने की शक्ति पाते हैं।

मेरे विद्यालय की विशेषताएं

मेरे विद्यालय की कई सारी विशेषताएं हैं जिसका संपूर्ण रुप से व्याख्यान करना मुमकिन नहीं है मगर फिर भी इसकी मुख्य बातों पर चर्चा की जा सकती है, मेरे विद्यालय का परिसर बाकी सभी अन्य विद्यालयों से अधिक बड़ा है, दो दो मंजिलें की सभी इमारतें बनी हुई है, जिस पर पहले तथा नीले रंग लगे हुए हैं। इसके साथ ही सब तरफ पेड़ पौधे लगे हुए हैं जो सभी को छाया देती है।

साथ ही मेरे विद्यालय का वातावरण बाकी सभी अन्य विद्यालय से काफी शांत है, यहां ट्रेन अध्यापक अपनी जान को सभी बच्चों तक सही तरीके से खो जाते हैं, हमेशा ही कुछ ना कुछ नया करने के लिए प्रेरित करते हैं। हर प्रश्नों का उत्तर देने के लिए हमारे विद्यालय के अध्यापक हमेशा तत्पर रहते हैं।

जब भी बोर्ड की परीक्षाएं का परिणाम आता है तो हमारे विद्यालय के विद्यार्थी अच्छा प्रदर्शन करते हैं, हमेशा ही हमें कक्षा के बाद घर के लिए होमवर्क दिया जाता है, जो हम अक्सर पूर्ण करते हैं।

हमारे स्कूल मैं हर तरह के प्रतियोगिताएं रखी जाती है जिसमें सभी बच्चे भाग लेते हैं, प्रतियोगिताओं में भाग लेने से छात्रों के अंदर विकास देखने को मिलता है। बच्चों के गुण को निखारने के लिए स्कूल हर संभव प्रयास करती है। विभिन्न प्रकार के कार्य भी स्कूल में करवाए जाते हैं जिससे छात्र अलग-अलग तरह के कार्य को सीख सके और अपने को कौशल बना सकें।

स्कूल का सबसे बड़ा और सबसे अच्छा स्थान पुस्तकालय है, जहां हर विषय के पुस्तक मिलते हैं, मैं अक्सर वही घंटों बताता हूं और अलग-अलग तरह के किताबों को पढ़ना पसंद करता हूं। मुझे अक्षर है रोमांचक कहानियों की किताबें पसंद आती है, इसके साथ ही अच्छी अच्छी नवेल भी मुझे पढ़ना अधिक पसंद है।

हर तरह की व्यवस्था हमारे स्कूल में देखने को मिलती है, लड़के तथा लड़कियों के लिए अलग-अलग शौचालय बने हुए हैं, पानी पीने के लिए चारों तरफ नल लगे हुए हैं, यह सभी अस्थान हमेशा साफ रहते हैं। जिसकी वजह से यहां किसी भी तरह की कोई बीमारी का खतरा नहीं होता।

हर सुबह बच्चों को योगा करवाया जाता है जिससे कि उनका मानसिक तथा शारीरिक विकास हो सके, साथ ही संगीत और नृत्य के साधन भी उपलब्ध है। कक्षा में बच्चों को विषय के बारे में अच्छे से समझाने के लिए स्मार्ट कक्षा का भी इंतजाम हमारे स्कूल में है।

Conclusion

स्कूल और छात्र एक दूसरे से बने हुए होते हैं, छात्रों के लिए विद्यार्थी जीवन सबसे अमूल्य होता है, व्यक्ति के आखिरी सांस तक स्कूल की यादें रहती है। स्कूल के दोस्त जीवन भर साथ रहते हैं और उनके साथ बिताए गए पल हमेशा याद रहते हैं। किसी भी व्यक्ति के लिए स्कूली जीवन उसके जीवन में सबसे खास होता है।

हम सभी को अपनी स्कूल की यादें कभी भूल ही नहीं चाहिए, अगर किसी व्यक्ति को मौका मिलता है अपने स्कूल में जाने का तो उसे अवश्य जाना चाहिए, स्कूल में जाने पर पुरानी यादें ताजा हो जाती है और दिल को सुकून मिलता है।

Read more –

essay on my schoolmoney essay in hindi
School picnic essay in hindiVocational education essay in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post