Essay on Youth in Hindi (युवा पर निबंध)

Essay on Youth in Hindi – युवा एक ऐसी अवस्था है जिसमें एक छोटा बच्चा अपने बचपन को छोड़कर व्यस्त होता है, अपने जिम्मेदारियों को समझता है वह अपने कार्य को संपूर्ण रूप से अपनाने के लिए तत्पर होता है। किसी भी समाज, देश के उत्थान में युवा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को एक जिम्मेदार युवा बनना चाहिए।

पूरे देश और समाज को बदलने की ताकत युवाओं में होती है, देश को युवा से उम्मीदें होती हैं कि वह अपने कर्मों से देश का उत्थान कर सकें, देश में रहने वाले, आसपास रहने वाले सभी लोगों का ख्याल रख सकें। देश को आगे बढ़ाने में युवा जितना योगदान देता है शायद ही कोई और देता होगा।

प्रत्येक व्यक्ति की अपनी प्रतिभा और सहन शक्ति होती है, युवाओं में इतनी ताकत होती है कि वह अपने लिए गए फैसलों से किसी का भी उद्धार कर सके या किसी को भी बर्बाद कर सकें। सदियों से व्यक्ति विकसित होता रहा है और कई तरह की विचारधाराएं पनपती रही है, जैसे जैसे युवा व्यस्त होता है वैसे वैसे उसकी बुद्धि और शारीरिक बल भी बढ़ता है, आज के सभी युवा हर काम को करने की क्षमता रखते है मगर उनक मार्गदर्शन करना आवश्यक है।

आज का युवा किसी भी व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त करना नहीं चाहता, वह अपने बल पर, अपने ज्ञान के बल पर हर काम को स्वयं ही करना चाहता है। दूसरों से सलाह लेने में उन्हें अपमान अनुभूति होती है।

जल्दबाजी में लिए गए फैसलों के कारण कई सारे युवा मुसीबत में पड़ जाते हैं, उनके फैसलों के कारण समाज और देश पर असर पड़ता है। हालांकि इन्हें मार्गदर्शन देने पर यह उत्तम प्रदर्शित कर सकते हैं। वहीं कई सारे ऐसे युवा भी हैं जो अपने कार्य में लगन के साथ आगे बढ़ते हैं, गणित, विज्ञान, इंजीनियरिंग, वस्तु कला, जैसे विभिन्न विभिन्न क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।

एक जिम्मेदारी युवा देश को बदलने की ताकत रखता है, और वही अगर युवा गलत रास्ते पर निकल जाए तो देश को तबाह करने की ताकत रखता है। इसलिए युवाओं को अच्छे मार्गदर्शन की हमेशा जरूरत होती है।

Essay on Youth in Hindi

युवा को अपराध की तरफ बढ़ाने वाले कारण

युवा एक बहुत ही शक्तिशाली उम्र श्रेणी है, इस वक्त अगर युवा को सही रास्ता दिखाया जाए तो वह दूसरों के लिए और देश के लिए काफी लाभदायक हो सकता है मगर वही अगर इन्हें अच्छा मार्गदर्शन ना मिले तो यह देश को और लोगों को तकलीफ दे सकता है। ऐसे ही कई सारे कारण होते हैं जिनकी वजह से युवा अपराध की तरफ बढ़ने लगते हैं।

शिक्षा में कमी

शिक्षा एक ऐसी माध्यम है जिसकी वजह से एक युवा जिम्मेदार व्यक्ति बन सकता है और इस संसार में परिवर्तन आ सकता है, मगर वही अगर किसी युवा को अच्छी शिक्षा ना मिले, अच्छा मार्गदर्शन ना मिले तो वह गलत रास्ते पर निकल सकता है जिसका परिणाम जिस समाज देश के लिए विनाशकारी हो सकता है। प्रत्येक युवा को अच्छा शिक्षा मिलना चाहिए।

India Essay in HindiCricket Essay in Hindi
Sports Essay in HindiCow Essay in Hindi

बेरोजगारी

युवा अपने आपको अच्छे से तभी प्रदर्शित कर सकता है जब उसके पास रोजगार हो, रोजगार युवा को सही रास्ता दिखाने में मदद करता है, किसी युवा के पास अगर रोजगार नहीं है तो वह गलत रास्ते, गलत फैसले लेने पर मजबूर हो जाता है। अपनी दिनचर्या की जरूरतें पूरी करने के लिए वह कई तरह के अपराध करता है। इसलिए युवा को सही रास्ते पर ले जाने के लिए उसे रोजगार देना आवश्यक है।

जीवन से असंतोष

आज के युवा अपना भविष्य अपने मन मुताबिक तय नहीं करते, परिवार वालों का भोझ, और उनके सपने पूरे करने के लिए युवा हर वह कार्य करता है जो उसे पसंद नहीं है, इन्हीं सभी कारणों की वजह से वह अपने जीवन से संतुष्ट नहीं होता। और अपने आप को ठीक से प्रदर्शित नहीं कर पाता, मान लीजिए कोई व्यक्ति लिखने में अच्छा है और उसे मजदूरी करने के लिए कहा जाता है तो वह ना तो अच्छे से मजदूरी कर पाएगा और ना ही अपने लेखन कार्यशैली को आगे बढ़ा पाए इसलिए उसे अपने मन मुताबिक कार्य को चुनने का अवसर देना चाहिए।

बढ़ती प्रतिस्पर्धा

छोटी से छोटी रोजगार के लिए भी आज के समय लाखों युवा आगे आते हैं, मगर कुछ कार्य पद के वजह से कई युवा बेरोजगार हो जाते हैं जिन वजह से उनका मनोबल टूटता है, और अपने कार्य में संपूर्ण रुप से ध्यान नहीं दे पाते। बढ़ती जनसंख्या की वजह से यह सभी कारण युवाओं में देखने को मिलता है। शिक्षा में प्रतिस्पर्धा, कार्य में प्रतिस्पर्धा, और अन्य कई सारे ऐसे क्षेत्र हैं जहां प्रतिस्पर्धा देखने को मिलती है। इन सभी कारणों की वजह से युवा निराश हो जाता है।

Essay on Youth in Hindi – भारत का युवा

आज भारत में लगभग 65% भारतीय युवा के रूप में हैं, जिन्होंने अपने प्रतिभाशाली गुणों से देश को गर्व की अनुभूति कराई है, भारत देश के युवा अनुभवी, योग्य, उत्साहित और सर्वश्रेष्ठ हैं। आज का युवा हर क्षेत्र में अपनी भूमिका अदा करने के लिए तैयार है चाहे विज्ञान का क्षेत्र हो या खेलकूद का सभी ने भारतीय युवाओं ने अपना उत्तम प्रदर्शन दिया है। भारत के युवा भारत को विश्व में सबसे अलग पहचान दिलाने के लिए ही दिन रात मेहनत करते हैं।

ऐसे कई सारे उदाहरण हैं, युवा हमारे देश में सबसे प्रमुख उम्र शैलियों में से एक हैं, उनमें इतनी शक्ति है युवा हमारे देश को ऊंचे शिखर तक पहुंचा सकते हैं, और उम्मीद करते हैं कि प्रत्येक युवा अपनी जिम्मेदारियों को समझेगा और देश के लिए अपना 100% योगदान देगा।

Essay on Youth in Hindi

युवा को सशक्त क्यों बनाएं?

युवा को सशक्त बनाने के कई सारे कारण है जिनका उल्लेख नीचे बिंदु के माध्यम से किया गया है।

  • देश के विकास के लिए, देश की आर्थिक स्थिति को बदलने के लिए युवा को सशक्त करने की जरूरत है।
  • उनकी रुचि को जानने के लिए और उनको प्रबल बनाने के लिए, उन्हें सशक्त करने की जरूरत है।
  • युवा के कार्यशैली को पहचानने के लिए, और उनके कार्य से विश्व का कल्याण करने के लिए उन्हें सशक्त बनाने की जरूरत है।
  • समाज के सभी समस्याओं का निवारण करने के लिए, और समाज को ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए युवक को सशक्त करना जरूरी है।
  • देश के सभी समस्याओं को सुलझाने के लिए, और उन्हें बेहतर तरह से प्रदर्शित करने के लिए युवाओं को आगे आना चाहिए इसलिए उन्हें सशक्त करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को योगदान देना चाहिए।

जिम्मेदारी युवा कैसे तैयार करें?

हमारे आस पास दो तरह के युवा देखने को मिलते हैं पहला वो जो अपने जिम्मेदारियों को जानता है, और दूसरा जो नियमों का पालन करता है और अपने कार्य पर ध्यान देता है। और कुछ युवा ऐसे हैं जो बनाए गए नियमों पर सवाल उठाते हैं और उन्हें ठीक से परखना पसंद करते हैं। हालांकि यह गलत नहीं है मगर जिम्मेदारी से काम करने वाला युवा ही असल मायने में देश के लिए योगदान देता है।

आज के समय प्रत्येक युवा अपनी क्षमता के अनुसार कार्य शैली में जुड़ा हुआ है, और हम सभी को उनकी सहायता करनी चाहिए ताकि वह एक जिम्मेदारी युवा बन सके, अपने कार्य को पहचान सके और अपनी प्रतिभा से बदलाव ला सके।

प्रारंभिक शुरुआत

जिम्मेदार युवा बनाने के लिए उसकी शुरुआत में बचपन से ही हो जाती है, मां बाप को अपने बच्चों को हर तरह की शिक्षा देनी चाहिए, उन्हें हर कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। उनके उम्र के अनुसार उन्हें कार्य सपना चाहिए और उन्हें सिखाना चाहिए वह कार्य किस प्रकार किया जाता है। प्रारंभिक शिक्षा एक अच्छा युवा बनाने के लिए महत्वपूर्ण होती है।

My School Essay in HindiKnowledge Essay in Hindi
My Dream Essay in HindiEducation Essay in Hindi

नैतिक मूल्यों का ज्ञान

माता पिता को अपने बच्चों को यह बताना चाहिए कि क्या गलत है और क्या सही है, यह बहुत जरूरी है कि बच्चों को बताया जाए कि क्या करना सही होता है और क्या करने से किसी को नुकसान हो सकती है। समय-समय पर उन्हें याद दिलाते रहना चाहिए उन्हें जो कुछ करना है वह लोगों की भलाई के लिए करना है ना कि उनके विनाश के लिए।

सराहना

बच्चे जो भी कार्य करते हैं उनकी सराहना की जानी चाहिए, जब कभी वह किसी कार्य को ठीक से नहीं कर पाते तो उन्हें प्रेरित करना चाहिए कि वह उस कार को किस प्रकार अच्छे से कर सकते हैं ना कि उसे बार-बार डाटा या पीटा जाए। अच्छे से बताने पर व्यक्ति अच्छे से कार्य को कर सकता है।

कठोर ना बने

छोटी-छोटी गलतियों पर बच्चों को मारने पीटने से उनका बचपन खराब होता है, उन्हें अच्छे से समझाना एक माता पिता का कर्तव्य है उन्हें सही रास्ता दिखाना माता पिता का फर्ज है। जब भी कोई बच्चा कोई कार्य करने की कोशिश करता है तो उसमें कई सारी गलतियां होती है उस वक्त उस कार्य को फिर से करने की प्रेरणा माता-पिता को देनी चाहिए। बच्चों के साथ बार-बार कठोर व्यवहार करने से उनका मनोबल टूटता है, उन्हें डर की अनुभूति होती है ऐसा करने से बच्चा अपने कार्य के प्रति जिम्मेदार नहीं हो सकता, इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को युवाओं तथा बच्चों के साथ कठोर व्यवहार नहीं करना चाहिए।

Essay on Youth in Hindi

आज के युवाओं की संस्कृति

आज के युवा मानसिक तथा संस्कृति के रूप से बदल चुके हैं, पश्चिमी संस्कृति का प्रभाव उन पर अधिक है और बढ़ते हुए टेक्नोलॉजी से उनका ध्यान भटक चुका है। पहले जमाने मैं व्यक्ति एक दूसरे से मिलने के लिए एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते थे और घंटों बैठकर एक साथ बातें करते थे, मगर वही आज सोशल मीडिया की वजह से लोग एक दूसरे से मिलना पसंद नहीं करते। अपने पड़ोस में कौन रहता है जिसका ज्ञान भी व्यक्ति को नहीं होता।

अपने दोस्त रिश्तेदार के अलावा कोई किसी और को जानता ही नहीं है, जब भी किसी व्यक्ति को जरूरत पड़ती है मदद की तो कोई व्यक्ति आगे बढ़ने के लिए तैयार नहीं होता। युवाओं के अंदर संस्कृति तथा लोगों की मदद करने की भावना मानो खत्म सी हो गई है।

बुजुर्गों द्वारा बनाए गए नियमों को आज के युवा मानने से इनकार कर देते हैं, बड़े बुजुर्गों की सलाह लेने से इनकार कर देते हैं। पुरानी पीढ़ी से आज के युवा कुछ सीखना ही नहीं चाहते, इन्ही सभी कारणों की वजह से आज का युवा अपने मार्ग से भटका हुआ है।

हालांकि कुछ युवा अपने कार्य के प्रति निष्ठावान हैं मगर वही कुछ ऐसे भी हैं जो जानते ही नहीं तूने अपने जीवन में क्या करना है, पूरा वक्त बर्बाद करते रहते हैं। दूसरों की सलाह नहीं मानते, गलत कार्य हो गलत संगत में अपना जीवन बर्बाद करते हैं।

Bank Essay in HindiAgriculture Essay in Hindi
Essay on Man in HindiEssay on Youth

Conclusion

माता पिता का फर्ज है कि अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा और इंसान बनने में मदद करें, युवा के योगदान की वजह से देश का कल्याण और उत्थान हो सकता है, इसलिए यह बहुत जरूरी है कि वह अपने कार्य में फ्रिस्ट बन सके। एक राष्ट्र को बनाने के लिए युवा सर्वप्रथम जिम्मेदार होता है एक अच्छा देश युवा के द्वारा बन सकता है।

भारत तथा अन्य किसी भी देश को सर्वश्रेष्ठ बनाने के लिए योगदान युवा ही सर्व प्रथम जिम्मेदार होता है, आज के युवा बुद्धि तथा बल के सहायता से देश को परिवर्तित कर रहे हैं, खेल तथा विज्ञान में अच्छा प्रदर्शित कर रहे हैं।

युवा का कार्य शिव्या नहीं है कि पढ़ लिख कर कामयाबी हासिल करें, युवा को अपने जीवन का मूल्य समझना होगा, प्रत्येक व्यक्ति को किस प्रकार वाह अच्छी जीवन प्रदान कर सकता है इसके बारे में हर पल चिंतित करना होगा। युवा के योगदान से ही इस देश का कल्याण हो सकता है। मानसिक तथा शारीरिक रूप से युवा को स्वतंत्र होकर कार्य करना होगा। संस्कृति, अपनी बोली, अपनी वेशभूषा, सभी को साथ लेकर आगे बढ़ना होगा।

oosoo
oosoo.co.in एक हिन्दी एजुकेशनल वेबसाईट है, इसके फाउन्डर और इसपे आर्टिकल बिकाश शाह लिखते है। बिकाश शाह एक ब्लॉगर है जो पिछले 3 सालों से इंटरनेट पर आर्टिकल लिखते आ रहे है। अभी ये अरुणाचल प्रदेश मे रहते है, साथ ही ये यूट्यूब पर विडिओ भी बनाना पसंद करते है। अगर आपको इसके बारे मे अधिक जानकारी चाहिए तो आप इनसे कान्टैक्ट कर सकते है। सोशल मीडिया का लिंक आपको about मे मिल जाएगा। इस वेबसाईट के आर्टिकल को पढ़ने के लिए आपका सुक्रिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *